वीरेंद्र कंवर ने जिला स्तरीय वन महोत्सव का घरवासड़ा से किया शुभारंभ

वीरेंद्र कंवर ने जिला स्तरीय वन महोत्सव का घरवासड़ा से किया शुभारंभ

ऊना जिला में 170 हेक्टेयर भूमि पर लगभग 1 लाख 35 हजार पौधे रोपे जाएंगे: वीरेंद्र कंवर

ऊना/सुशील पंडित: ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज, मत्स्य, कृषि व पशु पालन मंत्री वीरेंद्र कंवर ने आज कुटलेहड़ विधानसभा क्षेत्र के गांव घरवासड़ा में स्वर्णिम वाटिका में पीपल का पौधा रोपित कर जिला स्तरीय वन महोत्सव का शुभारंभ किया।

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि वर्ष 2021-22 के दौरान प्रदेशभर में 14 हजार हेक्टेयर क्षेत्र पर एक करोड़ से अधिक पौधे रोपे जाएंगे।
उन्होंने कहा कि ऊना जिला में मानसून मौसम के दौरान 170 हेक्टेयर भूमि पर लगभग 1 लाख 35 हजार पौधे रोपे जाएंगे। इसके अतिरिक्त 10 हैक्टेयर भूमि पर 10 हजार पौधे भी रेडक्रॉस सोसाईटी द्वारा वन भूमि पर लगाए जाएंगे, जिसके लिए प्रत्येक उपमंडल में भूमि का चयन किया गया है। उन्होंने कहा कि इन पौधों की देखभाल करने के लिए पंचायती राज संस्थानों के प्रतिनिधियों की मदद भी ली जाएगी। उन्होंने कहा कि आज से एक बूटा बेटी के नाम अभियान का भी शुभारम्भ किया गया है। इस अभियान के तहत ऊना जिला के 1365 आंगनवाड़ी केन्द्रो में पांच-पांच फलदार पौधे लगाने के लिए 6825 फलदार पौधे वितरित किए जा रहे है। साथ ही प्रत्येक नगर परिषद और पंचायतों के प्रत्येक सदस्यों को पौधारोपण के लिए 51-51 पौधे प्रदान किए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि वनों का हमारे जीवन में अहम स्थान है। वन हैं तो हम हैं। इसलिए हमें केवल एक दिन ही नहीं बल्कि जब भी समय लगे पौधें अवश्य लगाने चाहिए व उसके संरक्षण का भी ध्यान जरुर रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिनके घर में बेटी है, उन्हें एक फलदार वृक्ष बेटी के नाम से जरुर लगाना चहिए। उन्होंने कहा कि हमारा कल वनों पर ही निर्भर है। पेड़ो से हमें मुुफ्त में आॅक्सीजन मिलती है। कोरोना काल में आॅक्सीजन की आवश्यकता की अहम सीख मिली है, इसलिए हमें वनों के संरक्षण का संकल्प लेना चहिए।
वीरेंद्र कंवर ने कहा कि हिमाचल प्रदेश के पूर्ण राज्यत्व के स्वर्ण जयंती वर्ष के अवसर पर वन विभाग द्वारा प्रदेश के सभी विधानसभा क्षेत्रों में स्वर्णिम वाटिकाए विकसित की जा रही है।

इससे पूर्व वनमंडल अधिकारी मृत्युंजय माधव ने मुख्यातिथि का स्वागत किया।
इस अवसर पर उपायुक्त ऊना राधव शर्मा, अतिरिक्त उपायुक्त डाॅ अमित कुमार शर्मा, जिला वन अधिकारी मृत्युंजय माधव, जिला परिष्द उपाध्यक्ष कृष्ण पाल शर्मा, स्थानीय प्रधान सहित पंचायती राज संस्थानों के प्रतिनिधियों, विभागीय अधिकारी व अन्य लोग उपस्थित थे।

Share