सेहत विभाग ने श्रमिकों को वैक्सीन लगवाने में काफी मेहनत की, श्रमिकों ने वैक्सीन लगवाने को महत्व नहीं दिया

सेहत विभाग ने श्रमिकों को वैक्सीन लगवाने में काफी मेहनत की, श्रमिकों ने वैक्सीन लगवाने को महत्व नहीं दिया

-अब सेहत विभाग निर्माण स्थलों पर जाकर लगाएगा टीका, जागरूक भी करेगा

कपूरथला/चंद्रशेखर कालिया: पंजाब सरकार की ओर से जिले में पंजाब कंस्ट्रक्शन एंड अंडर वर्कर्स बोर्ड की ओर से रजिस्ट्रर्ड लेबर के लोगों को वैक्सीन लगवाने की शुरआत की गई है। शुरुआती दिनों में विभाग ने श्रमिकों को वैक्सीन लगवाने में काफी मेहनत की श्रमिकों ने वैक्सीन लगवाने को महत्व नहीं दिया। नतीजा सिविल अस्पताल में अपने लेबर के लगने वाली वैक्सीन का आंकड़ा बढ़ाने के लिए अन-रजिस्ट्रर्ड लेबर को भी वैक्सीन लगानी शुरू कर दी।टीकाकरण अधिकारी डॉ. रणदीप सिंह सहोता का मानना है कि निर्माण श्रमिकों को वैक्सीन लगाने में बड़ी दिक्कत आ रही है। कंस्ट्रक्शन बोर्ड के पास लगभग 6 हजार के करीब मजदूर रजिस्ट्रर्ड है। 7 दिन में 18 से 44 वर्ष की उम्र के 2111 श्रमिकों को वैक्सीन लगाई गई है। सेहत विभाग के सूत्र बताते है कि सिविल अस्पताल में रजिस्टर्ड लेबर वैक्सीन लगवाने के लिए कम ही आ रही है। उनकी जगह कुछ औद्योगिक घरानों के लोग अपनी अन-रजिस्टर्ड लेबर को वैक्सीन लगवाने सिविल में आ रहे हैं। इस कारण उन्हें वैक्सीन लगाई जा रही। लेबर इंस्पेक्टर रजनी कांसल का कहना है कि लेबर की वैक्सीनेशन के लिए सिविल और अन्य जगह पर कैंप लगाए गए हैं। श्रमिकों को फोन कॉल कर वैक्सीनेशन के लिए बुलाया जाता है। जो भी श्रमिक सिविल अस्पताल में टीका लगवाने के लिए आता है, उसे पहल के आधार पर वैक्सीन लगवाई जा रही है।जिला प्रशासन ने निर्माण कार्य स्थल पर काम कर रही लेबर को वैक्सीन लगाने की मुहिम शुरू की है। डीसी ने आदेश दिए हैं कि जिस जगह पर श्रमिक निर्माण कार्य कर रहे हैं। लेबर विभाग व सेहत विभाग उसी जगह पर जाकर उन्हें वैक्सीन लगाएगी। जिला प्रशासन की ओर से श्रमिकों को निर्माण कार्य स्थल पर वैक्सीन लगाने के लिए मुहिम शुरू की गई है। डीसी दीप्ति उप्पल ने कहा कि श्रमिक जिनकी उम्र 18 से 44 वर्ष है, उन्हें वैक्सीन लगाई जाएगी। लेबर विभाग के अधिकारी जिले में निर्माण कार्य स्थल पर सर्वें करने भी गए। वहां पर काम कर रही लेबर ने इस बात को अधिक तवजों नही दी। विभाग के सूत्रों के मुताबिक सर्वे करने गए अधिकारियों को श्रमिकों ने अपना तर्क दिया कि उनके साथियों ने वैक्सीन लगवाई थी, उन्हें बुखार आ गया। ऐसे में यदि वह भी वैक्सीन लगवाएंगे तो उन्हें भी बुखार आ सकता है और उनकी दिहाड़ी खराब हो जाएगी। इसके बाद अधिकारी वापस लौट आए हालांकि बेगोवाल के गांव सीकरी में चल रहे निर्माण कार्य स्थल पर कुछ श्रमिकों ने वैक्सीन लगवाई है।

Share