शिक्षा विभाग का दायरा सीमित करने के खिलाफ सांझा अध्यापक मोर्चा ने किया प्रदर्शन

शिक्षा विभाग का दायरा सीमित करने के खिलाफ सांझा अध्यापक मोर्चा ने किया प्रदर्शन

सीएम पंजाब से फैसलों पर तत्काल रोक लगाने की मांग

कपूरथला/चंद्रशेखर कालिया: नई शिक्षा नीति 2020 के अंतर्गत पंजाब में प्री नर्सरी से बारहवीं कक्षा को एक ही स्कूल में चलाकर कांप्लेक्स स्कूल का एजेंडा लागू करने और शिक्षा विभाग का दायरा सीमित करने के विरोध में सांझा अध्यापक मोर्चा की ओर से प्रदर्शन किया गया। अध्यापकों ने मुख्यमंत्री पंजाब और शिक्षा मंत्री से उक्त फैसलों पर तत्काल रोक लगाने और बातचीत से सभी मसले हल करने की मांग की। कैप्टन सरकार पर वायदा खिलाफी का आरोप लगाते हुए अध्यापकों ने कहा कि सरकार कोरोना वाले इस संकट के दौर उन्हें संघर्ष करने को मजबूर न करे।सांझा अध्यापक मोर्चा के नेता सुखचैन सिंह वध्धन, नरेश कोहली और ब्लॉक प्रधान अजय कुमार ने कहा कि पंजाब सरकार की ओर से लोकतांत्रिक शिक्षा प्रबंध विरोधी एजेंडे के अंतर्गत प्राइमरी, मिडिल और हाई स्कूलों को चुनिदा सीनियर सेकेंडरी स्कूलों में मर्ज करके शिक्षा और रोजगार को उजाडऩे का प्रयास कर रही है। अध्यापक नेताओं ने कहा कि मिडिल स्कूलों के स्वतंत्र अस्तित्व और पद खत्म करने का फैसला वापस लिया जाए। कोविड से ग्रस्त अध्यापकों के लिए 30 दिन के वेतन समेत छुट्टी देने संबंधी स्पष्टता जारी करने की मांग भी की गई। नेताओं ने पिछले समय कोरोना के कारण शहीद हुए अध्यापकों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए शिक्षा सचिव पर भी निशाने साधते हुए कहा कि दाखिला बढ़ाने का जनून अनेकों अध्यापकों की जान लेने का सबब बन गया। इस अवसर पर संदीप दुर्गापुर, अश्वनी कुमार, जगजीत सिंह, अजय गुप्ता, बलजिन्दर सिंह, कुलदीप ठाकुर, मंदीप कुमार, सुखदेव सिंह आदि उपस्थित थे।

Share