किसानों के बढ़ते आक्रोश और आंदोलन के आगे झुकी मोदी सरकार: विजय डोगरा

किसानों के बढ़ते आक्रोश और आंदोलन के आगे झुकी मोदी सरकार: विजय डोगरा

ऊना/सुशील पंडित: देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को आखिर किसानों के बढते आक्रोश व आंदोलन के आगे झूकना ही पडा और तीन काले कृषि कानूनों को वापिस लेने की घोषणा कर दी। लेकिन इस घोषणा की टाईमिंग पर कांग्रेस ने सवाल उठाए। यह बात प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता विजय डोगरा ने ऊना मुख्यालय पर कही है। उन्होंने कहा कि गुरूपर्व के अवसर पर प्रधानमंत्री द्वारा विशेष रणनीति से इस तरह कृषि कानूनों को वापिस लेने की घोषणा से किसानों का गुस्सा शांत नहीं होगा। डोगरा ने कहा कि मोदी के हठ के कारण भाजपा को देश में हुए उपचुनावों में करारी हार का सामना करना पडा और अपना जनाधार खिसकता नजर आया तो तीनों कृषि कानूनों को वापिस लेने में ही प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी भलाई समझी। प्रधानमंत्री ने माना कि वे इन कानूनों के बारे किसानों को सही ढंग से समझा नहीं सके। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा लिए गए गल्त निर्णयों से देश की अर्थव्यवस्था काफी कमजोर हुई है। आज देश में मंहगाई व बेरोजगारी बढी है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता विजय डोगरा ने कहा कि भाजपा जिन बिलों को संजीवनी बता रहे थे, आखिर वहीं कृषि बिल वापिस लेने पडे। इसलिए केंद्र सरकार अगर समय रहते सूझबूझ से देश के अन्न्दाताओं के साथ बेहतर तालमेल रखकर इन कानूनों को बनाती तो आज केंद्र सरकार की जग हंसाई न होती और अभी भी मन में कुंठा न रखते हुए देश के अन्न्दाताओं का अपमान करने की बजाए उन्हें सौहार्दपूर्ण माहौल में बिठाकर उनके व देश हित्त में फैसला लें।

Share