गैंगरेप मामला पार्ट-5: विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के गले की फांस बन सकता है यह गैंगरेप

गैंगरेप मामला पार्ट-5: विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के गले की फांस बन सकता है यह गैंगरेप

मामला रफा दफा करने खाकी और खादी हुई एक..?

इस कांग्रेसी नेता ने एसआईटी से जांच करवाने की रखी मांग

जालंधर/अनिल वर्मा/वरुण अग्रवाल। क्लाऊड स्पा सैंटर में नाबालिग लड़की के साथ चार दरिंदों द्वारा किए गैंगरेप का मामला दर्ज होने के चार दिन बाद भी पुलिस के हाथ कोई सफलता नहीं लगी है। जोकि कमिशनरेट पुलिस की मुसतैदी की पोल खोल रही है। आरोपी आसानी से शहर के पॉश इलाके में कई साल स्पा सैंटर की आढ़ में नशे तथा देह व्यापार का धंधा करते है और गैंगरेप करते हैं मगर स्थानिय पुलिस को इसकी सूचना न होना या फिर इस ओर कोई ध्यान न देना पुलिस को कटहरे में खड़ा कर रहा है। चाहे अब सांप निकलने के बाद पुलिस लकीर पीट कर अपनी छवि को पाक साबित करनेमें जुटी है मगर इस कृत में कहीं न कहीं आरोपियों के साथ साथ स्थानिय पुलिस भी कम गुनहगार नहीं है।

यह मामला आने वाले विधानसभा चुनावों दौरान भी कांग्रेस की गले की हड्डी बनेगा इसलिए इसे शुरुआती दौर में ही मैनेज करने के लिए गुप्त मीटिंगों का दौर शुरु हो चुका है। एनकांऊटर न्यूज के पत्रकार को मिली जानकारी अनुसार इस मामले मेंं देर रात एक बैठक हुई जिसमें खादीधारी नेता ने पीड़ित पक्ष को वित्तिय मदद देने के लिए रणनीति बनाई। यहां तक कि इस मामले मेंं जांच कर रही लोकल पुलिस को भी प्रैशर डाला जा रहा है कि कोई ऐसी कारवाई न करें जिससे कांग्रेस की छवि दागदार हो।

बता दें कि इस गैंगरेप में आरोपी अरशद खान भी जालन्धर के एक कांग्रेसी नेता का भाई है। इस कांग्रेसी नेता का शहर में बड़े स्तर पर कंस्ट्रक्शन का काम है और उसका बड़े कांग्रेसी नेताओं के साथ उठना बैठना है। हालांकि कांग्रेसी नेता का कहना है कि उसका अपने भाई के साथ 12 साल पहले रिश्ता खत्म हो चुका है और आपस में कोई लेन देन नहीं है।
वहीं इस मामले की सुपरविजन कर रहे एडीसीपी अशवनी कुमार का कहना है स्पा सैंटर बंद है और अभी कोई भी डीवीआर जब्त नहीं किया गया। आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए दो टीमें छापेमारी कर रही हैं मगर अभी तक सफलता नहीं मिली।

इस मामले मेंं कांगे्रसी नेता अरविंद शर्मा ने कहा कि उन्होने दो दिन पहले डीजीपी दिनकर गुप्ता को शिकायत भेजी थी मगर अभी तक कोई ज्वाब नहीं आया अब इस मामले में चाइल्ड राईट कमिशन में शिकायत भेजकर मामले में एसआईटी का गठन करने की मांग की जाएगी तांकि इस मामले मेंं आरोपियों के करीबी पुलिस वाले कोई मदद न कर सके। अरविंद ने कहा कि पुलिस इस तरह जांच कर रही है जैसे कोई स्नैचिंग हुई है हालांकि इस केस में कमिशनेट पुलिस को 24 घंटे में ही आरोपियों को गिरफ्तार करके खुद की काबलियत साबित करनी चाहिए थी जो नहीं हुई।

Share