सिटी लाइफ लाइन अस्पताल मरीज की अनदेखी के चलते आया सुर्खियों में

सिटी लाइफ लाइन अस्पताल मरीज की अनदेखी के चलते आया सुर्खियों में

पठानकोट (अजय सैनी): शहर के सिटी लाइफ लाइन अस्पताल में लाए गए मरीज की अनदेखी के चलते परिजनों ने अस्पताल के खिलाफ रोष जताया। इस संबंधी मरीज के परिजनों में उसकी माता नीलम ने बताया कि उनकी बेटी बीमार थी। जिसे पंगोली चौक के अस्पताल में दाखिल करवाया गया था। लेकिन वहां के डाक्टरों ने जबाव दे दिया जिससे लडकी को गोयल अस्पताल में दाखिल करवाया गया। उसने बताया कि डाक्टर ने यहां 700 रूपये मांगे और उपचार शुरू किया।

इसके बाद डाक्टर ने कहा कि मरीज को कोरोना हो सकता है इसलिए बाहर आपसे अधिक पैसे ले सकते हैं। इसलिए आप यहां 50 हजार जमा करवा दें। इसके बाद डाक्टर गोयल ने कहा कि पैसे बाथरूम में रख दें और हमारे कर्मचारी उठा लेंगे। इसके बाद कुछ देर मरीज के टेस्ट किए और 50 हजार की ओर मांग की। लेकिन हमने कहा कि आप मरीज का उपचार करें हम बाकी पैसे सुबह दे देंगे। लेकिन डाक्टरो ने मरीज की आक्सीजन खोल ली तथा मरीज तडपता रहा। इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची तथा उनको बताया गया। इसके बाद मरीज को सिविल अस्पताल में ले गए यहां लडकी का उपचार चल रहा है। वहीं एएसआई विजय कुमार ने बताया कि परिजनों की शिकायत आई थी इस पर पुलिस मौके पर पहुंची तथा परिजनों के ब्यान लिख लिए हैं। वहीं सीसीटीवी में कैद ब्यानों के बाद कार्रवाई की जाएगी।

वहीं अस्पताल के डाक्टर मुनीश गोयल से जब बात की गई तो उन्होंने कहा कि मरीज को आते ही यहां दाखिल कर लिया गया और उसको आक्सीजन लगाकर उपचार शुरू कर दिया गया। वहां 700 रूपये फीस लिखी थी जो उनसे ली गई। उन्होंने आरोपों को नकारते हुए कहा कि उनसे कोई भी पैसों की मांग नहीं की गई है। वहीं मुझे पुलिस के सामने पैसे देने की कोशिश की गई है। वहीं सीसीटीवी की फुटेज देख सकते हैं उसमें सब पता चल जाएगा। मेरी ओर से किसी को आक्सीजन उतारने के लिए नहीं कहा गया।
फोटो कैपशन: 5
प्रदर्शन करते हुए मरीज के परिजन

Share