कोरोना के चलते नहीं लग रहे कैंप, ब्लड बैंक हो रहे खाली

कोरोना के चलते नहीं लग रहे कैंप, ब्लड बैंक हो रहे खाली

कपूरथला/चंद्र शेखर कालिया: सिविल अस्पताल में कोरोना महामारी के चलते रक्तदान कैंप नहीं लगाए जा रहे हैं। जिले के सभी सरकारी अस्पतालों में ब्लड की कमी है। समाज सेवी संस्थाओं के प्रतिनिधि कोरोना के चलते रक्तदान करने के आगे नहीं आ रहे हैं। यदि संस्थाओं की ओर से कैंप लगाकर महीने में 50 से 100 यूनिट तक ब्लड को अस्पतालों में बने ब्लड बैंकों को दे तो ब्लड की कमी को पूरा किया जा सकता है। सिविल अस्पताल कपूरथला के ब्लड बैंक में सिर्फ 40 यूनिट ब्लड का स्टाक है।प्रदेश सरकार की ओर से गर्भवती महिलाओं, कैंसर, थेलीसीमिया के मरीजों को मुफ्त ब्लड देने के आदेश जारी किए गए हैं। कोरोना महामारी के चलते एक वर्ष से किसी भी संस्था की ओर से रक्तदान कैंप नहीं लगाया गया हैं।कपूरथला सिविल अस्पताल में ओ-पाजिटिव, बी-पाजिटिव, एबी-पाजिटिव, ओ-नेगेटिव व पाजिटिव, बी-नेगेटिव ब्लड की कमी देखने को मिली है। अस्पताल में यदि किसी मरीज को ब्लड की जरूरत होती है तो पहले उसे अपने रिश्तेदार या अन्य किसी संस्था के माध्यम से ब्लड लेना होगा। ब्लड बैंक के इंचार्ज डाक्टर प्रेम का कहना है कि एक सप्ताह पहले समाजसेवी संस्था की ओरसे सुल्तानपुर लोधी के गांव डल्ला में कैंप लगाया गया था। वहां से 53 यूनिट ब्लड सिविल अस्पताल के ब्लड बैंक को दिया गया था। इस समय ब्लड बैंक में 40 यूनिट ब्लड है। यदि कोई संस्था रक्तदान करना चाहती है तो वह उनके मोबाइल नंबर-84273-48108 पर संपर्क कर सकते हैं। सिविल सर्जन डा. परमिदर कौर का कहना है कि कोरोना महामारी के चलते अस्पताल में रक्तदान कैंप नहीं लगाए जा रहे है। समाजसेवी संस्थाओं के सदस्य खुद रक्तदान करने आते हैं जिससे ब्लड की कमी को पूरा किया जा रहा है। यदि किसी मरीज को ब्लड की जरूरत होती है तो पहले उसके रिश्तेदार या परिजन से ब्लड लेकर पूरा किया जाता है। कोरोना संक्रमण खत्म होने के बाद कैंप लगाकर ब्लड बैंक में ब्लड की कमी को पूरा किया जाएगा।

Share