Encounter News
Encounter News
Tuesday, March 2, 2021 Search Search YouTube Menu

सेक्स लाइफ तबाह कर सकते हैं ये 7 बिमारियां

नई दिल्ली। पार्टनर के साथ सेक्सुअली कनेक्ट रहना रिलेशनशिप में इंटिमेसी का एक अच्छा संकेत है. ये आपके सेक्सुअल हार्मोन्स और बॉडी को भी हेल्दी रखता है. हालांकि, बढ़ती स्वास्थ्य समस्याएं आपकी सेक्स लाइफ को बेकार कर सकती हैं. इसलिए अपनी हेल्थ कंडीशन के बारे में आपको अच्छे से पता होना चाहिए. आइए इसी कड़ी में आपको कुछ ऐसी स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में बताते हैं जो आपकी सेक्स लाइफ को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकती हैं.

डायबिटीज- डाबिटीज के रोगी पुरुषों को एरेक्शन और एजाकुलेशन जैसी समस्याएं हो सकती हैं. हाई ब्लड शुगर से हमारी रक्त वाहिकाआओं और नसों पर बुरा असर पड़ता है. साथ ही साथ ये सेक्स ऑर्गेन्स के लिए जरूरी नॉर्मल ब्लड फ्लो को भी प्रभावित करता है. जबकि इस कंडीशन में महिलाएं वजाइनल ड्रायनेस, पेनफुल इंटरकोर्स और सेक्सुअल डिजायर की कमी महसूस करती हैं. हेल्दी और क्लीन डाइट के साथ शारीरिक रूप से खुद को एक्टिव रखना ही इस समस्या का हल है.

क्रॉनिक पेन- शरीर के किसी हिस्से में भयानक दर्द या क्रॉनिक पेन भी आपकी सेक्सुअल डिजायर को कम कर सकता है. क्रॉनिक पेन से राहत पाने के लिए डॉक्टर की सलाह पर किसी दवा का इस्तेमाल कर सकते हैं. हालांकि, कोई भी दवा लेने से पहले सतर्क जरूर रहें, क्योंकि कुछ पेनकिलर्स के सेक्सुअल साइड इफेक्ट भी होते हैं.

हार्ट डिसीज- अगर आपको हृदय संबंधी कोई परेशानी है तो सेक्स आपके जेहन में आने वाली सबसे आखिरी चीज होगी. एक्सपर्ट कहते हैं कि अगर किसी इंसान को कुछ समय पहले ही हार्ट अटैक आया हो तो उसे कुछ समय तक सेक्स को लेकर सतर्क रहना चाहिए

डिप्रेशन- यह मेंटल हेल्थ कंडीशन आपके मन की स्थिति को प्रभावित करती है. आप हमेशा लो फील करते हैं और ऐसी किसी भी एक्टिविटी में शामिल होने का मन नहीं करता जो आपकी मनोदशा को दुरुस्त कर सके. इसके लिए डॉक्टर्स आपको कुछ दवाओं का सुझाव दे सकते हैं जो बदले में आपकी सेक्स लाइफ को भी प्रभावित कर सकती हैं. इस बीच आप कामोत्तेजना में मुश्किलों का सामना कर सकते हैं. ऐसे में दवा की कम डोज या मेडिसिन स्विच करना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है. हालांकि, सबसे पहले अपने डॉक्टर की सलाह लें.

आर्थराइटिस- जोड़ों में दर्द या ऐंठन आपकी सेक्स लाइफ को काफी हद तक खराब कर सकता है. चूंकि सेक्स के लिए बॉडी मूवमेंट की जरूरत होती है, इसलिए इस हेल्थ कंडीशन से जूझ रहे लोग सेक्स करने से बचते हैं.

लो टेस्टोस्टेरॉन और मेनोपॉज- लो टेस्टोस्टेरॉन की समस्या से जूझ रहे पुरुषों को भी सेक्स से जुड़ी समस्या हो सकती है. ये समस्या उम्र के साथ बढ़ती चली जाती है, क्योंकि टेस्टोस्टेरॉन जैसे सेक्स हार्मोन धीरे-धीरे कम होने लगते हैं. जब महिलाएं उम्र के 40वें या 50वें पड़ाव पर आती हैं तो उन्हें मेनोपॉज हो सकता है, जो कि शरीर में एस्ट्रोजेन के लेवल को कम कर देता है.

इसकी वजह से महिलाओं को वजाइनल ड्रायनेस, हॉट फ्लैशिस और सेक्सुअल डिजायर में कमी का अनुभव हो सकता है. हालांकि इस कंडीशन में भी कुछ मामलों में पुरुष और महिलाएं बॉडी में सेक्सुअल हार्मोन के काउंट को बढ़ाने के लिए डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं.