पुजारी ने 21 वर्षीय लड़की का मर्डर कर आश्रम के पीछे दफनाया शव..

-आरोपी की निशानदेही पर शव बरामद, पोस्टमार्टम के लिए टीएमसी भेजा..

ऊना/सुशील पंडित। पुलिस थाना गगरेट के गांव जाडला-कोयड़ी स्थित धार्मिक स्थल के पुजारी ने एमकॉम की छात्रा के सिर पर रॉड मारकर हत्या कर दी और शव को मंदिर के पीछे दबा दिया। पुजारी की निशानदेही पर पुलिस ने शव बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए टांडा मेडिकल कॉलेज भेजा है, जबकि आरोपी का मेडिकल चेकअप करवाया जा रहा है।

आरोपी पुजारी की पहचान विकास दुबे निवासी उत्तर प्रदेश के रूप में हुई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार जाडला-कोयड़ी निवासी नेहा ऊना कॉलेज में एमकॉम की छात्रा थी। परन्तु तीन अप्रैल को नेहा अचानक घर से लापता हो गई। परिजनों ने चार अप्रैल को नेहा की गुमशुदगी की रिपोर्ट गगरेट थाने में दर्ज करवा दी थी। पुलिस मोबाइल फोन की लोकेशन के आधार पर छात्रा को ढूंढने का प्रयास करने लगी।

मंगलवार तक पुलिस ने मोबाइल फोन की लोकेशन को ट्रेस किया और लोकेशन लड़की के घर के आसपास की ही आ रही थी। पुलिस ने नेहा के मोबाइल फोन पर आने और जाने वाली कॉल्स की डिटेल भी खंगाली। नेहा के घर से सटा हुआ एक आश्रम भी है। गगरेट थाना प्रभारी दर्शन सिंह ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ मंत्रणा की और मंगलवार को आश्रम से अपनी जांच को आगे बढ़ाया।

आश्रम के पुजारी से काफी गहन पूछताछ की गई। पूछताछ के दौरान पुजारी टूट गया और बताया कि उसने शनिवार यानि 3 अप्रैल की दोपहर को ही नेहा के सिर पर लोहे की रॉड मारकर उसकी हत्या कर दी थी और शव को आश्रम परिसर के पीछे भूमि में गाड़ दिया है। पुलिस ने आरोपी को हिरासत में लिया और बुधवार की सुबह करीब 11 बजे तहसीलदार परीक्षित नेगी और डीएसपी सृष्टि पांडे के नेतृत्व में शव को बाहर निकाला गया।

ग्रामीणों ने पांच घंटे तक किया हंगामा, बंधक बनाई पुलिस…
आश्रम परिसर के पीछे से नेहा का शव बरामद होने की सूचना मिलते ही वहां ग्रामीणों की भीड़ जुटना शुरु हो गई। देखते ही देखते सैकड़ों की तादाद में लोग आश्रम पहुंच गए और आरोपी को उनके हवाले करने की मांग करने लगे। स्थिति को देखते हुए पुलिस व अन्य अधिकारियों ने आश्रम के दरवाजे अंदर से बंद कर लिए। यह देखकर ग्रामीण और ज्यादा आक्रोशित हो उठे और लोगों ने आश्रम के दरवाजे बाहर से बंद कर दिए और तहसीलदार व एसपी सहित अन्य अधिकारी आश्रम में ही बंधक बनकर रह गए। ग्रामीणों के बढ़ते आक्रोश को देखते हुए अतिरिक्त पुलिस बल मौके पर मंगवाना पड़ा। ग्रामीणों ने आश्रम से निकलने वाले सभी रास्ते बंद कर दिए थे। ग्रामीण पुजारी को भीड़ के हवाले करने की मांग पर अड़े थे। इस बीच ग्रामीणों ने पुलिस पर पत्थरबाजी भी की, जिसमें दो पुलिस कर्मी घायल हो गए। अतिरिक्त पुलिस बल ने किसी तरह मंदिर के ताले आदि तोड़कर आलाधिकारियों को बाहर निकाला। करीब पांच घंटे की जद्दोजहद के उपरांत अपराह्न करीब तीन बजे पुलिस नेहा का शव अस्पताल भेजने और आरोपी पुजारी को सकुशल निकालने में कामयाब हो पाई। समाचार लिखे जाने तक युवती के शव का पोस्टमार्टम नहीं हो पाया है।

चंद माह बाद तय थी नेहा की शादी मौके पर मौजूद ग्रामीणों ने बताया कि नेहा की शादी तय हो चुकी थी। नेहा अत्यंत सुशील और धार्मिक प्रवृति की थी और मंदिर में माथा टेकने जरूर जाती थी। शनिवार को नेहा मंदिर गई लेकिन उसके बाद नेहा को किसी ने नहीं देखा। बताया जा रहा है कि धार्मिक स्थल के मुख्य संचालक इन दिनों हरिद्वार गए हुए हैं और विकास दुबे मंदिर की देखरेख कर रहा था। ग्रामीणों ने कहा कि ऐसे बाबा समाज और धर्म के नाम पर कलंक हैं और ऐसे लोगों को सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए।

फॉरेंसिक टीम को मौके पर बुलाया: एसपी…
एसपी ऊना अर्जित सेन ने बताया कि आरोपी से पूछताछ की जा रही है। उन्होंने बताया कि युवती का शव पोस्टमार्टम के लिए टांडा मेडिकल कॉलेज भेजा गया है। इसके साथ ही धर्मशाला से फॉरेंसिक एक्सपट्र्स को मौका मुआइना करने के लिए बुला लिया गया है। हत्यारोपी को वीरवार को अदालत में पेश करके रिमांड पर लिया जाएगा और साक्ष्य जुटाए जाएंगे।

About the author