प्रतिकूल हालातों में भी शिक्षा का स्तर रखा कायम–डा. अर्चना गर्ग

कपूरथला/चंद्र शेखर कालिया: स्थानीय हिन्दू कन्या कॉलेजिएट स्कूल वर्ष 2004 से शहर के प्रतिष्ठित हिन्दू कन्या कालेज की प्रबंधक कमेटी द्वारा कालेज के प्रांगण में ही चलाया जा रहा है।स्कूल ने कोविड-19 के दौर में भी जब पूरा विश्व ठहर सा गया था, हमारे शिक्षकों ने अपनी डियूटी जारी रखी। रैगुलर कलासें भी लीं, कई तरह की प्रतियोगिताऐं करवाई, वैबिनार करवाए और सीखने, सिखाने की प्रक्रिया रुकने नहीं दी। स्थानीय हिन्दू कन्या कॉलेज की प्रिंसीपल डा.अर्चना गर्ग ने उपलब्धियां बताते हुए कहा।उन्होनें बताया कि हिन्दू कन्या कालेज कपूरथला, जिस का 52 साल से उपर का गौरवमई इतिहास है और इस कॉलेज को गुणवत्ता के लिए दो बार नैक की ओर से ए-ग्रेड दिया गया है, के प्रागंण में ही हिन्दू कन्या कॉलेजिएट स्कूल को चलाया जा रहा है। स्कूल में मैडिकल, नान-मैडिकल, कार्मस और आर्टस विषय में पढ़ाई करवाई जा रही है और यह शहर का इकलौता स्कूल है जिसमें आर्टस में पढ़ाई के लिए 13 अलग-अलग इलैक्टिव विषय उपलब्ध हैं।स्कूल में उच्च शिक्षा प्राप्त अध्यापक हैं जो कि हर वक्त बच्चों की शिक्षा और उनके व्यक्तितव विकास को लेकर कार्य करते रहतें हैं।स्कूल में कम्पयूटराईजड लाईब्रेरी है जिस में 21 हजार से अधिक पुस्तकें हैं। लाईब्रेरी में बुक बैंक की भी सुविधा है जिस में से जरूरतमंद और होनहार छात्रायों को पूरे सैशन के लिए किताबें भी पढ़ने के लिए दी जातीं है। स्कूल में अति-आधुनिक सुविधायों से सुसज्जित फिजिक्स, कैमिस्टरी, बॉयोलोजी, कम्पयूटर, होमसाईंस, संगीत व कार्मस की लैब हैं जिस में बच्चों को थियूरी के साथ साथ विषय के साथ जुड़े प्रयोगी कांसैप्ट को भी अच्छे से जानकारी दी जाती है।स्कूल के परीक्षा परिणाम हमेशा ही अच्छे रहें हैं और ज्यादातर छात्र पहले दर्जे में ही परीक्षा पास करते हैं। स्कूल प्रबंधक कमेटी की ओर से परीक्षायों में 80 प्रतिशत से उपर नंबर हासिल करने वालों के लिए स्लैब-वाईज स्कालरशिप का प्रबंध किया हुआ है। पंजाब सरकार व केंद्र सरकार की ओर से पोस्ट मैट्रिक स्कालरशिप, माईनारिटी स्कालरशिप व अन्य छात्र सुविधाएं स्कूल के बच्चों को उपल ब्ध करवाए जाते है।स्कूल के बच्चों के लिए हमारे पास एनसीसी का भी विंग है। जिस में बच्चे स्कूल और उसके बाद कॉलेज में पढ़ते पढ़ते सी-सर्टीफिकेट तक हासिल कर सकतें हैं।स्कूल में इस बात का पूरा ध्यान रखा जाता है कि बच्चों का शिक्षा के साथ व्यक्तितव का विकास भी हो। कई तरह की प्रतियोगितायों का आयोजन किया जाता है जिस में स्कूल के बच्चों के इलावा दूसरे स्कूलों से भी बच्चों को बुलाया जाता है। हाल में ही स्कूल की ओर से सुपर ब्रेनज का आयोजन किया गया जिस में विभिन्न स्कूलों से 300 से अधिक बच्चों ने भाग लिया। बच्चों को सर्टीफिकेट, ट्राफी और नकद पुरूस्कार दे कर सम्मानित किया गया।

About the author