Encounter News
Encounter News
Sunday, May 31, 2020 Search Search YouTube Menu

मजदूरों के नाम पर औछी राजनीति कर रही प्रिंयका बाड्रा -कृष्ण कौशल

सकंट के समय में गरीबों की गरीबी का मजाक उड़ा रही कांग्रेस
बद्दी/सचिन बैंसल।
हिमाचल प्रदेश व्यापार प्रकोष्ठ के सदस्य एवं दून भाजपा मडल के उपाध्यक्ष कृष्ण कुमार कौशल ने कहा कि देश में आपातकाल के समय में प्रिंयका ब्राड्रा ने मजदूरों के नाम पर ओछी राजनीति की है। पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि मजदूरों को छोडऩे के लिए कांग्रेस ने जो बसों के नंबरों की सूची जारी की थी। उसका मुआयना करने के बाद लोगों की आंखे खुली रह गई। दर असल प्रिंयका न जो सूची यूपी सरकार को सौंपी है उसमें कई थ्री व्हीलर व कारों के नम्बर भी शामिल है। यह ठीक उसी प्रकार का मामला है जो लालू सरकार ने अपने शासन काल में ही स्कूटर पर ही चारा को ढो लिया था।लालू के पशुपालन घोटाले में तो फिर भी जानवर निशाने पर थे लेकिन प्रिंयका बाडा्र ने गरीबों को ही अपनी राजनीति का शिकार बना दिया। इससे साफ जाहिर के है कांग्रेसियों के दिलों में आम आदमी के प्रति जानवरों से भी गई गुजरी भावना है। आपात काल में गरीब मजदूरों पर इस तरह का प्रपंच रचते हुए उन्हें यह तक ध्यान नहीं रहा कि उनकी सारी शानों शौकत इसी आम जनता की देन है।
कृष्ण कौशल नेकहा कि लाक डाउन में कांग्रेस की ओर से ऐसा काम नहीं दिखा जो देश व जनता के हित में हुआ हो। यह जरूर है कि कांग्रेस ने पीएम केयर फंड, लाक डाउन के दौरान करोना के खिलाफ सरकार की ओर से चलाए जा रहे सभी कदमों को लक्ष्य से भटकाने का प्रयास किया गया। यही नहीं आरोगय एप और केंद्र सरकार की ओर से दिए गए 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज को भी सवालों के घेरे में लेने का भरपूर कोशिश की। गरीबी हटाओं के नाम पर गरोबों को शोषण करने का खेल कांग्रेस पुश्त दर पुश्त करती आ रही है आज की पीढ़ी भी उसी रास्ते पर चल रही है।
मंडल उपाध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस की अपनी ही विधायक अदिति सिंह ने प्रिंयका बाड्रा के इस कृ त्य को मजदूरों के साथ क्रूर मजाक बताया है। अगर प्रिंयका बाड्रा इतनी ही हितैषी होती तो कोटा में फंसे लाखों विद्यार्थियों को महाराष्ट्र व अन्य राज्यों में भेजने के लिए राजस्थान सरकार को बसे भेजने की अनुमति देती। मोदी सरकार ने जनता के सहयोग से लाक डाउन में सफल रखने में कामयाब रही। जनता से सहयोग से आज भारत में इस बीमारी का संक्रमण अन्य देशो से कम है। उन्होंने प्रिंयका बाड्रा से आग्रह किया है कि दुख की इस घड़ी में पुण्य कर्म करने के हजारों रास्ते है। अगर कुछ क रना ही चाहती है तो कर्म में विश्वास करें। जनता समय आने पर इसकी जरूरत फल देगी।

33 Views