कोरोनाः PM मोदी ने राज्यों के मुख्यमंत्री के साथ बैठक में लिए ये फैसले

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में कोरोना संक्रमण की स्थिति और टीकाकरण अभियान पर बुधवार मुख्यमंत्रियों के साथ बातचीत कर रहे हैं. इस बीच केंद्र कुछ राज्यों में संक्रमण बढ़ने के बीच टीकाकरण की कवायद को तेज करता दिख रहा है.आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि मोदी मुख्यमंत्रियों के साथ मुद्दों पर चर्चा करने के लिए एक वीडियो कॉफ्रेंस कर रहे हैं. महामारी के बाद से वीडियो कॉफ्रेंस नियमित रूप से किया जा रहा है.

पीएम मोदी ने इस दौरान कोरोना टेस्टिंग को बढ़ाने पर जोर दिया. उन्होंने कहा कि छोटे शहरों में हमें कोविड टेस्टिंग की क्षमता को बढ़ाना होगा, गांवों में कोरोना को फैलने से रोकने के लिए ये जरूरी है. अगर गांवों में कोरोना फैला तो इसे रोकना मुश्किल होगा.

मीटिंग में प्रधानमंत्री मोदी ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को कोरोना के बढ़ते मामलों को रोकने के लिए जरूरी कदम उठाने को कहा है. पीएम मोदी ने कहा- ‘हमें कोरोना की उभरती हुई पीक को तुरंत रोकना होगा. सभी राज्य इसके लिए प्लान बना लें.’

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी बैठक में हिस्सा नहीं ले रहे हैं. वह असम के होजाई में एक रैली को संबोधित कर रहे हैं.

COVID-19 के बढ़ते मामलों और चल रहे टीकाकरण अभियान को लेकर सभी मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम नरेंद्र मोदी की बैठक वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चल रही है.

पीएम की बैठक में पश्चिम बंगाल सरकार की ओर से चीफ सेक्रेटरी मौजूद हैं. वहीं छत्तीसगढ़ की ओर से राज्य के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव मौजूद हैं.

छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल COVID स्थिति और टीकाकरण पर पीएम मोदी के साथ बातचीत में शामिल नहीं हुए. पीएम की बैठक के वक्त वह असम स्थित सिलापथार विधानसभा में रैली कर रहे थे.

इससे पहले जनवरी में मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ अंतिम बातचीत टीकाकरण शुरू होने से पहले हुई थी. बता दें भारत में कोविड-19 के एक दिन में 28,903 नए मामले सामने आने के बाद देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की कुल संख्या बढ़कर 1,14,38,734 हो गई. इस साल एक दिन में सामने आए यह सर्वाधिक मामले हैं.

आंकड़ों के अनुसार, इससे पहले 13 दिसम्बर को 24 घंटे में वायरस के 30,254 नए मामले सामने आए थे. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, देश में वायरस से 188 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 1,59,044 हो गई.

आंकड़ों के अनुसार, देश में लगातार सातवें दिन वायरस के नए मामलों में बढ़ोतरी दर्ज की गई और उसके साथ ही उपचाराधीन मरीजों की संख्या भी बढ़कर 2,34,406 हो गई ,जो कुल मामलों का 2.05 प्रतिशत है. देश में कुल 1,10,45,284 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं. हालांकि मरीजों के ठीक होने की राष्ट्रीय दर में गिरावट आई है और वह अब 96.56 प्रतिशत है. वहीं, कोविड-19 से मृत्यु दर 1.39 प्रतिशत है.

देश में पिछले साल सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितम्बर को 40 लाख से अधिक हो गई थी. वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितम्बर को 50 लाख, 28 सितम्बर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख, 20 नवम्बर को 90 लाख और 19 दिसम्बर को एक करोड़ के पार चले गए थे.

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, देश में 16 मार्च तक 22,92,49,784 नमूनों की कोविड-19 संबंधी जांच की गई है. इनमें से 9,69,021 नमूनों की जांच मंगलवार को की गई थी. आंकड़ों के अनुसार, देश में पिछले 24 घंटे में वायरस से जिन 188 लोगों की मौत हुई, उनमें से महाराष्ट्र के 87, पंजाब के 38, केरल के 15 और छत्तीसगढ़ के 12 लोग थे.

मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, देश में वायरस से अभी तक कुल 1,59,044 लोगों की मौत हुई है. इनमें से महाराष्ट्र के 52,996, तमिलनाडु के 12,556 , कर्नाटक के 12,403, दिल्ली के 10,945 , पश्चिम बंगाल के 10,297 , उत्तर प्रदेश के 8,750 और आंध प्रदेश के 7,185 लोग थे.

About the author