Encounter News
Encounter News
Saturday, December 5, 2020 Search Search YouTube Menu

विधायक और डीसी ने 16 हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर जनता को किए समर्पित

जालंधर में अब कुल 208 वेलनेस सेंटर प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं को प्रदान करेंगे मजबूती

जालंधर (वरुण)। कोविड महामारी के दौर में प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं और बुनियादी ढांचे को उत्साहित करने के उदेश्य से जालंधर पश्चिमी हलके के विधायक सुशील कुमार रिंकू और डिप्टी कमिश्नर घनश्याम थोरी ने शनिवार को जालंधर में 16 हैल्थ एंड वैल्लनैस्स सेंटर (तंदरुस्त पंजाब स्वास्थ्य केंद्र) लोगों को समर्पित किये।

जालंधर में अब 172 अपग्रेड किये गए सब हेल्थ सैंटरों, 8 शहरी और 28 ग्रामीण प्राथमिक हेल्थ सेंटरों के साथ 208 हेल्थ एंड वैल्लनैस्स सैंटर होंगे।

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंन्दर सिंह की तरफ से 107 हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों के राज्य स्तरीय वर्चुअल उद्घाटन समारोह में हिस्सा लेते हुए जालंधर पश्चिमी से विधायक सुशील रिंकू और डिप्टी कमिश्नर घनश्याम थोरी ने कहा कि ये सेंटर कम्युनिटी हेल्थ अधिकारियों द्वारा चलाए जाएंगे और कैंसर समेत अलग -अलग रोगों जैसे शुगर, दिल के रोग और अन्य बीमारियों के इलाज की सुविधा उप्लब्ध करवाएंगे।

उन्होंने बताया कि इन सेंटरों को चलाने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा विशेष तौर पर तैयार किये गए ब्रिज प्रोग्राम के अंतर्गत नरसिंग स्टाफ को विशेष प्रशिक्षण दिया गया है। यह स्टाफ इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी (आईपीएनओयू) से कम्युनिटी हेल्थ अधिकारी की 6 महीने का प्रशिक्षण प्राप्त कर चुक है। उन्होंने बताया कि पाठ्यक्रम के दौरान कम्युनिटी हेल्थ अधिकारियों को सैद्धांतिक एवं व्यावहारिक प्रशिक्षण भी दिया गया है।

उन्होंने कहा कि यह सैंटर पहले पड़ाव पर ही संदिग्ध मामलों का जल्दी पता लगाने को विश्वसनीय बनाकर कोविड-19 महामारी से प्रभावशाली ढंग से निपटने के लिए सहायक सिद्ध होंगे।

उन्होंने कहा कि ज़ुकाम जैसे लक्ष्णों वाले संदिग्ध मामलों की जल्दी टेस्टिंग के साथ इन तरह के केसों को बढ़ने से रोका जा सकता है, जिससे वायरस की चेन को जल्दी तोड़ने में सहायता मिलेगी।

उन्होंने कहा कि ये सैंटर सिविल अस्पताल के डाक्टरों पर काम का भार भी घटाएंगे। उन्होंने दावा किया कि पंजाब सरकार की तरफ से यह देश में विशेष प्रकार की पहलकदमी है और आशा जताई कि ये सेंटर जिले के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में हरेक निवासी को उनके दरवाज़े पर सेवाएं प्रदान करेंगे।

उन्होंने कोविड विरुद्ध इस जंग में स्वास्थ्य कर्मचारियों और डाक्टरों के योगदान की भी प्रशंसा की और उनको ‘वर्दी के बिना सिपाही ’ करार दिया। इस अवसर स्टाफ नर्स कमलजीत कौर, जोकि मार्च 2020 से कोविड ड्यूटी निभा रही है, ने वर्चुअल कान्फ़्रेंस के दौरान मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंदर सिंह से बातचीत भी की।

इस अवसर पर अतिरिक्त डिप्टी कमिश्नर विशेष सारंगल, एस.डी.एम डा. जय इन्द्र सिंह, सिविल सर्जन डा. गुरिन्दर कौर चावला, डी.एम.सी. डा. ज्योति शर्मा और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।