Encounter News
Encounter News
Wednesday, December 2, 2020 Search Search YouTube Menu

रसोई का बजट बिगड़ा! अब इसकी कीमतों में हुई 30% की बढ़ोतरी

encounter logo copy

नई दिल्लीः आलू प्याज के बढ़ते दाम के बाद अब तेल की बढ़ती कीमतों ने आम आदमी की रसोई का बजट बिगाड़ दिया है। खाने में उपयोग होने वाले सभी खाद्य तेलों मूंगफली, सरसों का तेल, वनस्पती, सोयाबीन, सूरजमुखी और ताड़ की औसत कीमतें एक बार फिर बढ़ गई हैं। पाम, सोयाबीन और सूरजमुखी के तेल की कीमतों में 20 से 30 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। खाद्य तेल की बढ़ती कीमतें सरकार के लिए चिंता का कारण बनी हुई हैं।

यहीं कारण है कि इसकी कीमतों को कम करने के तरीकों को लेकर सरकार विचार कर रही है। भारत में पाम ऑयल का आयात होता है लेकिन Lockdown के कारण मलेशिया जैसे देशों में इसका प्रोडक्‍शन घट गया है। इसके साथ ही बीज के दाम भी बढ़े हैं। हालांकि सरकारी स्‍तर पर प्राइस पर नियंत्रण के प्रयास हो रहे हैं। उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के मूल्य निगरानी सेल से प्राप्त आंकड़े बताते हैं कि सरसों के तेल की औसत कीमत बीते गुरुवार को 120 प्रति लीटर थी, जबकि बीते साल ये कीमत 100 रुपये प्रति लीटर थी। वनस्पति तेल की कीमत एक साल पहले 75.25 थी जो अब बढ़कर 102.5 प्रति किलोग्राम हो गई है। सोयाबीन तेल का औसत मूल्य 110 प्रति लीटर पर बिक रहा था जबकि 18 अक्टूबर 2019 को औसत मूल्य 90 रुपये था। सूरजमुखी और ताड़ के तेल के मामले में भी यही रुझान रहा है।