Encounter News
Encounter News
Saturday, December 5, 2020 Search Search YouTube Menu

अगर आप भी खाते है ज्यादा मूंगफली तो पढ़े ये खबर

नई दिल्ली। मूंगफली का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए और त्वचा (Skin) और बालों (Hairs) के लिए भी फायदेमंद है, क्योंकि इसमें मौजूद आवश्यक पोषक तत्व जैसे विटामिन (Vitamin), खनिज, एंटीऑक्सिडेंट, आवश्यक फैटी एसिड मौजूद होते हैं. मूंगफली सेहत के लिए लाभकारी तो होती है साथ ही इसका स्वाद भी लोगों को खूब पसंद आता है. कई बार स्वाद के चक्कर में मूंगफली खूब खा जाते हैं. अंदाजा नहीं होता है कि आप इसका बहुत ज्यादा सेवन कर चुके हैं. हालांकि, इसमें कोई शक नहीं कि मूंगफली सेहत के लिए फायदेमंद होती है लेकिन फिर भी उन्हें कम मात्रा में खाना बेहतर होता है. इसका कारण यह है कि अधिक मात्रा में मूंगफली खाने के कुछ साइड इफेक्ट्स होते हैं.

डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला का कहना है कि ज्यादा मात्रा में मूंगफली के सेवन से एलर्जी की शिकायत हो सकती है. मूंगफली से पहले कभी एलर्जी की शिकार हुई है, तो इसके सेवन से बचें. पहले मूंगफली के कुछ दाने खाकर देखें कि सूट कर रही है या नहीं. मूंगफली खाने से कुछ लोगों को सांस लेने में दिक्कत हो सकती है. यहीं नहीं अस्थमा का अटैक भी आ सकता है. अस्थमा की समस्या है तो इसके सेवन में अति नहीं करें. वहीं थायराइड से जूझ रहे लोगों को भी विशेषज्ञ से बात कर ही इसका सेवन करना चाहिए.

त्वचा अगर संवेदनशील है तो मूंगफली ज्यादा खाने से खुजली व रैशेज की समस्या हो सकती है. संवेदनशील त्वचा के लिए मूंगफली घातक है. मुंह में खुजली, गले और चेहरे पर सूजन आदि इसके एलर्जी के ही लक्षण हैं.
जरूरत से ज्यादा मूंगफली खाने से पेट में गैस और सीने में जलन की समस्या हो सकती है. एसिडिटी की समस्या से पेट की और भी बीमारियां शुरू हो सकती हैं. इसलिए स्वाद के चक्कर में इतना न खाएं कि पेट ही खराब हो जाए.

मूंगफली ज्यादा खा लेने से लिवर की परेशानी भी हो सकती है. अत्यधिक मात्रा में मूंगफली खाने से अफलेटोक्सिन की मात्रा शरीर में बढ़ जाती है जो कि एक टॉक्सिक पदार्थ है. ये कार्सिनोजन होता है जो लिवर से जुड़ी बीमारियों को पैदा कर देता है.

मूंगफली में संतृप्त वसा मौजूद होती है, इसलिए जरूरत से ज्यादा मूंगफली खाने से हृदय संबंधी बीमारी होने की आशंका अधिक हो जाती है.

गर्म तासीर होने के कारण इसका ठंड के मौसम में सेवन करना उचित है. गर्मी में भूलकर भी इसका सेवन न करें. ऐसे मौसम में ज्यादा सेवन करने से पेट खराब होने की परेशानी भी हो सकती है.

मूंगफली में पर्याप्त मात्रा में ओमेगा-6 फैटी एसिड होता है जो कि सेहत के लिए अच्छा होता है. लेकिन इसकी अधिक मात्रा शरीर में ओमेगा-3 फैटी एसिड की मात्रा को कम कर देता है. ओमेगा-3 फैटी एसिड शरीर के लिए बहुत जरूरी है. इसकी कमी होने से हृदय रोग, इंफ्लेमेशन जैसी समस्याएं हो जाती हैं.

मूंगफली में लेक्टिन भी ज्यादा मात्रा में होता है. यह पचाने में आसान नहीं होता है और रक्त में मौजूद शुगर के साथ मिलकर इंफ्लेमेशन पैदा करता है और शरीर में सूजन व दर्द बढ़ा देता है. अर्थराइटिस में मूंगफली के इस्तेमाल से बचना चाहिए और कम मात्रा में ही सेवन करना चाहिए.