Encounter News
Encounter News
Tuesday, March 2, 2021 Search Search YouTube Menu

सेक्स करने से बढ़ता है वजन?, जाने सच…

नई दिल्ली। सोशल मीडिया पर फैली कुछ अफवाहों को भी लोग अब सच मानने लगे हैं। बहुत से लोगों को अब यह भी लगता है कि ज्यादा सेक्स करने से वजन बढ़ता है। यह बात सच है या फिर एक मिथक है, इसको लेकर आज हम बात करेंगे।

आज के समय में लोग सोशल मीडिया पर अपना बहुत सारा समय व्यतीत करते हैं। सोशल मीडिया पर फैली कुछ अफवाहों को भी लोग अब सच मानने लगे हैं। बहुत से लोगों को अब यह भी लगता है कि ज्यादा सेक्स करने से वजन बढ़ता है। यह बात सच है या फिर एक मिथक है, इसको लेकर आज हम बात करेंगे।

हालांकि, यह बात सच है कि वजन बढ़ने का जो कनेक्शन है, वह आपके सेक्स हार्मोन से जुड़ा हुआ है। अगर सेक्स हार्मोंस में असंतुलन की स्थिति पैदा हो जाती है तो वजन बढ़ने लगता है। मगर यह भी सच है कि सेक्स करने से तो कैलोरीज बर्न होती है। इसे एक अच्छा वर्कआउट भी कहा गया है। इसलिए यह सच नहीं है कि सेक्स करने से वजन बढ़ता है। लेकिन अगर सेक्स हार्मोन्स के असंतुलित होने से वजन बढ़ता है! तो आइए जानते हैं ऐसा क्यों होता है?

लोगों में असंतुलित हार्मोन्स की स्थिति पाई जाती है, तो इसके कई कारण माने जाते हैं। जिनमें से एक कारण है- जेनेटिक। जी हां, अगर आपके पूर्वजों के सेक्स हार्मोन्स भी असंतुलित थे, तो हो सकता है कि आपके सेक्स हार्मोन्स भी असंतुलित हों।

अगर किसी के हार्मोन्स असंतुलित हैं तो ज़रूरी नहीं है कि हर बार कारण जेनेटिक ही हो, क्योंकि ज्यादातर इसके कई और कारण भी होते हैं। जैसे स्ट्रेस, डायट, लाइफस्टाइल। इसी के साथ एस्ट्रोजन, प्रोजेस्टेरॉन, टेस्टोस्टेरॉन इत्यादि हार्मोंस भी हैं, जो आपके बढ़ते वजन का कारण बन सकते हैं।

जिन लोगों के हार्मोन्स असंतुलित हो जाते हैं, उनकी कमर और जांघों के पास फैट जमा होने लगता है। यानी कि अगर आपकी कमर और जांघों के पास ज्यादा फैट देख रहे हैं, तो समझ जाइए कि आपके हार्मोन्स असंतुलित हो रहे हैं और आपको इसको ठीक करने की जरूरत है।

महिलाओं में असंतुलित हार्मोन के कई कारण हो सकते हैं। जैसे कि पीरियड्स की डेट आगे पीछे हो जाना। यह संकेत देता है कि आपके हार्मोन असंतुलित हो रहे हैं। इससे आपका फैट बढ़ने लगता है।
इसी के साथ महिलाओं को हॉट फ्लैशेज़ होना। यह तभी होता है जब हार्मोन्स असंतुलित हो जाते हैं। अगर महिलाओं को अचानक से बार-बार गर्मी लगने लगे तो यह समझ लीजिए कि उन्हें हॉट फ्लैशेस है। हॉट फ्लैशेस एंडोक्राइन हार्मोन के असंतुलित हो जाने से होता है।
अगर महिलाओं की वजाइना (योनि) बार-बार ड्राई हो रही है, तो यह भी बड़ा कारण है कि जब आपके हार्मोन्स असंतुलित हो रहे होते हैं।
अगर आपको नींद आने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है या फिर आपको नींद नहीं आती है, तो भी आपके हार्मोन्स असंतुलित हो सकते हैं। इससे आपका फैट भी बढ़ता है।
अगर आपका मूड बार-बार स्विंग हो रहा है, तो भी यह संकेत है कि आपके हार्मोन्स असंतुलित हैं। बहुत से लोगों को एकदम से गुस्सा आ जाता है या फिर एकदम से वह तनाव महसूस करने लगते हैं तो इसे मूड स्विंग कहते हैं। अगर आप के हार्मोन्स असंतुलित हैं, तो आपकी सेक्स ड्राइव में भी कमी आएगी। साथ ही आपको डिप्रेशन की भी शिकायत है तो आपके हार्मोन्स असंतुलित हो सकते हैं।

सेक्स करने से फैट बढ़ता नहीं है, लेकिन अगर आपकी लाइफ स्टाइल बिल्कुल बदल रही है तो आपका फैट बढ़ सकता है। अगर आप ज्यादा ही कंफर्ट जोन में चले गए हैं, तो यह बड़ा कारण है कि आपके हार्मोन असंतुलित हो सकते हैं। यह एक बड़ा कारण होता है जब आप मोटे होने लगते हैं। इसी के साथ ही बहुत से लोग फास्ट फूड ज्यादा खाने लगते हैं इससे भी फैट बढ़ता है।